बाहुबली 2 द कन्क्लूज़न फिल्म का रिव्यु | Bahubali 2 The Conclusion Movie Review in hindi

Bahubali 2 The Conclusion Movie Review in hindi

बाहुबली 2 फ़िल्म (Bahubali 2 The Conclusion), 2015 में आई बाहुबली 1 का सिक्वल है जो कि पहले तेलगु में रिलीज की गई थी, जिसमे फ़िल्म के अंत में एक सवाल रह गया था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा. उस सवाल के जवाब के लिए दर्शकों की बेताबी बढती गयी और फिल्म कामयाबी हासिल करती गयी. फिर इसका बाहुबली 2 के रूप में सिक्क्वल आया, जो एक बहुप्रतीक्षित फ़िल्म है. यह एक एक्शन फिल्म है. इस फिल्म के डायरेक्टर एस. एस. राजामौली है. यह फ़िल्म 2 घंटे और 40 मिनट की है. कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा यहाँ पढ़ें.

बाहुबली 2 फ़िल्म के पात्र और कलाकार (Bahubali 2 The Conclusion movie star cast)

इस बहु प्रतीक्षित फ़िल्म के पात्र सभी वही हैं जो की बाहुबली 1 में थे. बाहुबली द बिगनिंग मूवी रिव्यु यहाँ पढ़े. पने अभिनय क्षमता को बहुत ही अच्छी तरह से इस फिल्म में प्रदर्शित किया है. बाहुबली 2  फ़िल्म के मुख्य कलाकारों के नाम है- प्रभास, राना दग्गुबती, अनुष्का शेट्टी, तमन्ना, रम्या कृष्णनन, नस्सेर, सुदीप आदि. प्रभास का जीवन परिचय व अनमोल वचन जानने के लिए पढ़े. इनके अलावा और भी बहुत सारे पात्र है इन सभी का विवरण फ़िल्म में इनके पात्रों के नाम सहित निम्नवत है –

कलाकारफ़िल्म में पात्रों के नाम
प्रभासअमरेन्द्र बाहुबली
राना दग्गुबतीभल्लाल देव
रमैया कृष्णनशिवगामी देवी
सत्यराजकटप्पा
नासरबिज्जलादेवा
तमन्नाअवंतिका
अनुष्का शेट्टीमहारानी देवसेना
रोहिणीसंगा
तानिकेल्ला भरनीस्वामीजी
अदिवी सेषभद्र
अदात्यराज गुरु
भरनीमर्थंदा
तेजा ककुमाणुसकेठुदु
राकेश वर्रेभल्लाल देव मित्र
प्रभाकरकालकेयास राजा
सुदीपअसलम खान
एस एस राजामौलीकेमियो
स्नेहा उपध्यायकेमियो
नोरा फतेहीकेमियो

बाहुबली 2 फ़िल्म की कहानी (Bahubali 2 movie story)

पहली फ़िल्म बाहुबली 1 में यह पहले ही दिखा दिया गया है कि अमरेन्द्र बाहुबली और भल्लाल देव, दोनों ही चचेरे भाई है. बाहुबली 1 में दोनों ही पात्रों को युद्ध के दृश्य में दिखाया गया है कि बाहुबली अपनी प्रजा की रक्षा करते हुए युद्ध गति को आगे बढ़ता है, और भल्लाल देव किस तरह से अपने रथ से प्रजा और दुश्मन दोनों की ही हत्या करते हुए आगे बढ़ता है. फ़िल्म में पात्र के इसी स्वाभाव को अगली कड़ी में भी जारी रखा गया है.

इसी कहानी को आगे बढ़ाते हुए बाहुबली 2 में दिखाया जाता है कि दोनों ही भले चचेरे भाई है, लेकिन उनका पालन एक ही माँ के द्वारा होता है, जिनका नाम शिवगामी देवी है. फिल्म में रानी शिवगामी देवी रानी महिष्मति का कार्य भार संभालती है. अमरेन्द्र बाहुबली अपने माता पिता के मरने के बाद अनाथ है जिसका पालन शिवगामी करती है. भल्लाल देव की अपनी माँ होने के बावजूद भी शिवगामी की यह चाहत है कि महिष्मति का राजा बाहुबली ही बने, क्योकिं बाहुबली में दयालुता के गुण है जो कि उसके बेटे भल्लाल में नहीं है वो निष्ठुर है.

Bahubali 2 The Conclusion
Bahubali 2 The Conclusion

शिवगामी का यह मानना है कि राजा में जनता के प्रति दयालुता रहनी चाहिए ये राजा के गुण होते है. फिर यही से कहानी में नये मोड़ आने शुरू होते है भल्लाल हमेशा बाहुबली से चिड़ा रहता है, और उसको और उसके वर्चस्व को उखाड़ फेकने की कोशिश हमेशा करते रहता है. उसकी इस तरह की नीति में उसके पिता उसका साथ देते हैं, फिर दोनों अपने नीति को कामयाब बनाने में कटप्पा जो की फ़िल्म में एक महत्वपूर्ण पात्र का नाम है और शिवगामी को इस्तेमाल करके साजिश रचते रहते है.

शिवगामी अमरेन्द्र और उसके वफादार सहायक कटप्पा को प्रजा और उसकी आवश्यकताओं को समझने के लिए आस पास के क्षेत्रों में भेजती है, जिसके लिए अमरेन्द्र बाहुबली और कटप्पा आम आदमी की तरह जाते है. कटप्पा पहले सिक्क्वल की तरह इसमें भी बफादारी निभाते हुए भयानक हत्या के लिए मजबूर हो जाता है.

इस बीच राजकुमारी देवसेना के साथ अमरेन्द्र की मुलाकात होती है और अमरेन्द्र देवसेना के प्यार में पड जाता है, और मंद्बुधि व्यक्ति के रूप में नाटक करके राजकुमारी को बेवकूफ बनाता है. दूसरी तरफ शिवगामी के पति बिज्जलादेवा और उसका बेता मिलकर एक षड़यंत्र करते है कि भल्लादेव, शिवगामी से देवसेना से शादी की इच्छा जता कर उससे अपने शादी के प्रस्ताव को भेजने के लिए वादा ले लेता है. यह इस फिल्म की सबसे कमजोर कड़ी लगती है.

बाहुबली 2 फिल्म रिव्यु (Bahubali 2 The Conclusion movie review in hindi)

फिल्म में महिला पात्र को मजबूत और साहसी तौर पर पेश किया गया है. फिल्म अपने आकर्षक दृश्य के साथ मनोरंजक है, लेकिन कही कही यह बहुत लाउड भी है. इसमें हाथी को नियंत्रित करते हुए प्रभास ने जो शूटिंग की है वह बहुत ही आकर्षक है. एम एम केरवनी के द्वारा फिल्म में संगीत को अच्छे से दिया गया है. पहले लोग फिल्मों में मनोरंजन, मसाले और मनोरंजक संगीत को देख कर खुश हो जाते थे, लेकिन अब दर्शक फ़िल्म को तर्कसंगता के साथ देखते है और फिल्मों पर अपने विचार रखते है. बाहुबली 2 एक ऐसी भारतीय सिनेमा में बनी भव्य फिल्म है, जिसको जल्दी भुला पाना मुश्किल है.

यह और फिल्मों की तरह आने जाने वाली फिल्म नहीं है, यह फिल्म लोगों के मन मस्तिष्क पर अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रही है.

फ़िल्म के डायरेक्टर ने इस फ़िल्म को बहुत ही भव्य तरीके से बनाया है. फ़िल्म के प्रत्येक दृश्य में ग्लैमर शैली को दिखाया गया है. इस बार ऐसा प्रतीत होता है कि नाटक पर ज्यादा और रचनात्मकता पर कम ध्यान दिया गया है. इस फिल्म के माध्यम से हमे ऐसा प्रतीत होता है कि वो हमे रोलर कोस्टर की सवारी पर ले जा रहे हो.

फ़िल्म से आप एक पल के लिए भी अपनी आँखों को हटा नहीं पाएंगे, इस फिल्म की सबसे बड़ी ताकत यह रही है कि इस फिल्म के हर एक पात्र ने दर्शकों को बंधे रखने में कामयाबी हासिल की है. फ़िल्म में एक्शन को हॉलीवुड के एक्शन डायरेक्टर पीटर हिन् ने दिया है. प्रभास ने इसके लिए काफी मेहनत की है. फिल्म को प्रभावी बनाने में इसका सबसे मजबूत भाग एक्शन ही है.

बाहुबली 2 फ़िल्म (Bahubali 2 The Conclusion) की कहानी में अमरेन्द्र बाहुबली के रूप में प्रभास का व्यक्तित्व बहुत ही भव्य दिखता है. फिल्म की कहानी में वह बहुत धार्मिक है, वह धर्म को व्यक्ति से ऊपर मानता है. उसे अपने पिता महेंद्र के बारे में इस फ़िल्म में पता चलता है. फिल्म में बाहुबली अपने सिंहासन के लिए लड़ते हुए अपनी दादी की मौत का बदला लेता है और अपनी माँ को कैद से छुड़ाता है. देवसेना जो हमेशा सही के लिए खड़ी रहती है, उसके और बाहुबली के प्रेम को दिखया गया है. इस किरदार में अनुष्का शेट्टी अपने युवा अवतार में बहुत अच्छी दिखती है.

कहानी में बहुत कुछ नया नहीं है. पौराणिक रूप से होती आई राजसिंहासन की लडाई को इस फिल्म में वैसे ही दिखाया गया है. फ़िल्म के मध्य भाग में ऐसा प्रतीत होता है कि दोहराई जा रही हो मध्य भाग सिर्फ साजिशों के ही भवर जाल में रह जाता है, साथ ही फिल्म थोड़ी लंबी भी जान पड़ती है. फिल्म में गाने भी कुछ ज्यादा समय तक याद रखे जाने लायक नहीं बने है. फ़िल्म में तमन्ना की उपस्थिति भी नाम मात्र की ही थी. राना दुग्गाबती अपने शारीरिक बनावट में ठीक दिखता है, लेकिन फिल्म में उसकी जरुरत कम महसूस होती है.

बाहुबली 2 फिल्म का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन (Bahubali 2 movie box office collection

बाहुबली के निर्माता ने बताया कि इसके दोनों पार्ट को बनाने में उनका बजट 2.50 करोड़ का रहा है. लेकिन कमाई के मामले में बाहुबली 2 ने अपने पहले ही दिन 100 करोड़ की कमाई बॉक्स ऑफिस पर कर ली है. सोमवार तक बाहुबली ने भारत में 625 करोड़ की कमाई कर ली थी. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि सबसे ज्यादा आमिर खान की कमाई करने वाली पीके फिल्म रिव्यु का रिकॉर्ड यह फिल्म तोड़ देगी. इस फ़िल्म को दुनिया भर में कुल 9000 स्क्रीन पर दिखाया गया था, जिसमे अकेले भारत में लगभग 6500 स्क्रीन पर दिखाया गया. यह फिल्म ऐसा प्रतीत होता है कि बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड तोड़ देगी. 

बाहुबली 2 फिल्म का निष्कर्ष (Bahubali 2 The Conclusion movie Findings)

आप इस फ़िल्म को एक मनोरंजन के तहत देख सकते है और इसके स्पेशल इफ़ेक्ट का आनंद ले सकते है. फ़िल्म का पहला भाग आपको थोडा बांधने में कामयाब होता भी है तो दूसरा भाग उतना मनोरंजक नहीं लगता है, लेकिन 2 साल के लंबे इंतजार के बाद आपको इस सवाल का जवाब इस फिल्म में मिल जायेगा कि आखिर कट्टप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा. बाहुबली 2 को फ़िल्म समीक्षकों के द्वारा 5 में से 4.5 अंक दिए गए है.

बाहुबली 2 फ़िल्म एक नज़र में (Bahubali 2 The Conclusion movie in-short)

फिल्म रिलीज की तारीख28 अप्रैल 2017
भाषातेलगु, तमिल, हिंदी, मलयालम
आधारितड्रामा
निर्देशकराजामौली
निर्माताशोबू यार्लागाद्दा प्रसाद देविनेनी
लेखकके. वी. प्रसाद
म्यूजिकएम एम कीरावानी
प्रोडक्शन कंपनीअर्का मीडिया वर्क्स
देशभारत

अन्य पढ़ें –

झुंड टीजर के लिये यहां क्लिक करें

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.